getQuote()->getItemsSummaryQty() > 0) { ?> Total Items: " ?> getQuote()->getItemsSummaryQty())?> Shopping Cart Empty!

getQuote()->getSubtotal() > 0) { ?> Total Price: " ?> getQuote()->getSubtotal(),2))?>

    Featured

    Most Popular

    Bestsellers

    1. Aadmi Akela Hai

      Aadmi Akela Hai

      Rs. 150.00

      आदमी अकेला है From the Series अजहूं चेत गंवार # 8 Learn More
    2. Apni Pehchan

      Apni Pehchan

      Rs. 300.00

      अपनी पहचान From the Series सांच सांच सो सांच प्रवचन: 9 (प्रश्न: 1,2) प्रश्न: 1 कल बुल्लेशाह की आपने अलफ काफी हमें पिलाई। उनकी बे काफी इस प्रकार है- बन्ह अखी अते कन्न दोवें, गोशे बैठ के बात विचारिए जी। छड खाहिशां जग जहान कूड़ा, कहिआ आरफा दा हीए धारिए जी। पैरी पहन जंजीर बेखाहिशी दी, इस नफस नूं कैद कर डारिए जी। जा जान देवें जान रूप तेरा, बुल्लाशाह एह खुशी गुजारिए जी। अर्थात आंख और कान दोनों बंद करके, होश में बैठ कर बात का विचार करो। जगत की ख्वाहिश छोड़ों, जगत झूठा है। ब्रह्मज्ञानी के कहे हुए को हृदय में धारण करो। पैरो में बेख्वाहिशों की जंजीर पहन कर, इस क्षण को कैद कर डालो। अगर अपनी जान जाने दो तो अपना रूप जानो। बुल्लेशाह कहते हैं कि यही खुशी है जिसमें गुजारा है। भगवान, निवेदन है कि बुल्लेशाह की यह काफी भी हमें पिलाएं। प्रश्न: 2 भगवान बुद्ध ने भी वर्षो प्रवचन दिए, परंतु आज भारत में उनके अनुयायी नही के बराबर है। क्या आपके प्रवचन का प्रतिफलन भी विदेशों में ही लोकप्रिय होगा, इस देश में नही? क्या कारण है कि आपके प्रवचन में अभी तक भारतवासी प्रभावित नहीं हो रहे है? Learn More
    3. Osho Photo 12

      Osho Photo 12

      Rs. 1,200.00

      All photos are printed on vinyl paper, unmounted and matted, and unframed.

      Each photo will be sent rolled in a mailing tube. Learn More
    4. VIGYAN BHAIRAV TANTRA,  VOL.1 & 2 ( FULL SET MP3 )

      VIGYAN BHAIRAV TANTRA, VOL.1 & 2 ( FULL SET MP3 )

      Rs. 1,200.00

      Out of stock

      * Special Offer *  Osho Discourse Full Set of MP3   VIGYAN BHAIRAV TANTRA, VOL.1 & 2

      Learn More
    5. Ashtavakra Mahageeta, 31 to 40

      Ashtavakra Mahageeta, 31 to 40

      Rs. 150.00

      Out of stock

      प्रवचन: 31. मनुष्य एक अजनबी है 32. प्राण की यह बीन बजना चाहती है 33. हर जगह जीवन विकल है 34. धार्मिक जीवन-सहज, सरल, सत्य 35. अचुनाव में अतिक्रमण है 36. संन्यास: अभिनव का स्वागत 37. जगत उल्लास है परमात्मा का 38. जागते-जागते जाग आती है 39. विषयों में विरसता मोक्ष है 40. धर्म अर्थात उत्सव Learn More
    6. Adhyatma Upanishad, 11 to 17

      Adhyatma Upanishad, 11 to 17

      Rs. 150.00

      Out of stock

      प्रवचन: 11. धर्म-मेघ समाधि 12. वैराग्य आनंद का द्वार है 13. जीवन्मुक्त है संत 14. आकाश के समान असंग है जीवन्मुक्त 15. मेरे का सारा जाल कल्पित है। 16. एक और अद्वैत ब्रह्म 17. धर्म है परम रहस्य Learn More
    7. Patrika  –  1 Years – By Courier

      Patrika – 1 Years – By Courier

      Rs. 1,300.00

      Osho World Patrika presents extracts of selected Osho discourses and news and information on Osho and sannyas.The Patrika also provides information about the forthcoming meditation events and groups, and activities in the Sannyas world.

      Learn More
    8. Nishkriye Dhyan

      Nishkriye Dhyan

      Rs. 150.00

      निषिक्रय ध्यान (ओशो की आवाज में ध्यान) The words that I am speaking to you are ordinary words, you know them I do not like to use any kind of jargon But in anohter sense the words I am using are exraordinary because they are coming from a depth, from a space within me and certainly they are carrying with them some perform, some fragrance of that space. If you are silent, the words becomes inessentail and the fragrance that it is carrying becomes essentail. If the fragrance reaches you, you have listened. Learn More